अश्विन ने साझा की उस मैच की यादें जब मैदान पर रेंगते हुए बल्लेबाजी करने गए थे रविचंद्रन अश्विन

साल 2020-21 में भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर टेस्ट वनडे और टी20 श्रृंखला खेलने गई थी। भारतीय टीम टेस्ट श्रंखला खेल रही थी और एडिलेड टेस्ट मैच के बाद विराट कोहली घर वापस लौट चुके थे और कप्तानी अजिंक्य रहाणे कर रहे थे। भारतीय टीम मेलबर्न में मुकाबला जीत चुकी थी और अब बारी सिडनी टेस्ट मैच की थी जहां पर भारतीय टीम मुश्किल में थी और भारतीय टीम को टेस्ट मैच ड्रॉ कराना था।

उस मुकाबले में हनुमा विहारी भी चोटिल थे और रविचंद्रन अश्विन भी पीठ में चोट की वजह से संघर्ष कर रहे थे और भारतीय टीम को वह मुकाबला बचाना था। रविचंद्रन अश्विन और हनुमा विहारी ने बल्लेबाजी करना शुरू की और देखते ही देखते भारतीय टीम टेस्ट मैच ड्रॉ कराने के नजदीक पहुंची जा रही थी। इसी मैच का एक किस्सा रविचंद्रन अश्विन ने बताया है जब संघर्ष के दौरान कैसे रविचंद्रन अश्विन रेंगते हुए मैदान पर बल्लेबाजी करने गए थे।

एएनआई से बातचीत करते हुए रविचंद्रन अश्विन ने बताया है कि वह मैच की सबसे खास बात यह थी कि हनुमा विहारी के साथ हुई बातचीत ने ही इस साझेदारी को खास बनाया था। रविचंद्रन अश्विन ने कहा कि जब हम मैदान पर पहुंचे तो हमें मालूम था कि हमें क्या करना है हम संघर्ष कर रहे थे हम आगे नहीं जा सकते थे क्योंकि हमें चोट लगी थी।

जब मैदान पर तेज गेंदबाज गेंदबाजी कर रहे थे तो मैं आगे नहीं आ सकता था। तो मैंने हनुमा विहारी से कहा कि हम स्ट्राइक बदलते रहते हैं देखते हैं आगे क्या होता है। कुछ समय बाद हनुमा विहारी तेज गेंदबाजों का सामना कर रहे थे और मै स्पिन गेंदबाजों का सामना कर रहा था। इसी तरह से हम एक दूसरे की मदद कर रहे थे।

उस मुकाबले में मैंने पेनकिलर खाकर 13- 14 ओवर गेंदबाजी की थी। मैं बेहद दर्द से कराह रहा था। मेरी बीवी और मेरे बच्चों ने मैदान पर पहुंचने में मेरी मदद की थी लेकिन मैंने मैदान पर जाकर अपना सर्वश्रेष्ठ दिया था।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.