मुंबई-दिल्ली एक्सप्रेस वे से अब केवल 2 घंटे में पहुंच सकेंगे जयपुर, राजस्थान के इन सात जिलों से गुजरेगी ये एक्सप्रेस वे, देखें पूरी न्यूज

इन दिनों शहर में यात्रियों के सुविधा के लिए एक्सप्रेस वे का काम तेज़ी से चल रहा है, बता दे इसी बीच गुरूवार को केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने दिल्ली से मुंबई के बीच बनने वाले ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान गडकरी ने कहा कि यह दुनिया का सबसे बड़ा एक्सप्रेस वे है। यह एक्सप्रेस वे 1350 किलोमीटर लम्बा एक्सप्रेस वे है। जिसका 350 किलोमीटर का काम पूरा हो चूका है। अगले साल के जनवरी तक इसका काम पूरा होने की संभावना है। इस एक्सप्रेस वे पर एक तरफ आठ लें बनाई जा रही है वही भविष्य में ज़रूरत होने पर चार लेन और बढ़ाई जाएंगी।

दिल्ली के कई राज्यों में पहुंचा जा सकेगा आसानी से

राजस्थान के साथ जिलों की 18 तहसील के 265 गांवों से यह दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे होकर गुज़रेगा। वही यह एक्सप्रेस अलवर, भरतपुर, दौसा, सवाईमाधोपुर, टोंक, बूंदी और कोटा जिले से होकर गुजरेगा। वहीँ भारत माला परियोजना के पहले चरण के तहत इस एक्सप्रेस का निर्माण किया जा रहा है। वही दिल्ली के कई राज्यों में आसानी से पहुंचा जा सकेगा। इस एक्सप्रेस वे के ज़रिये दिल्ली से जयपुर 2 घंटे, दिल्ली से चंडीगढ़ 2 घंटे, दिल्ली से मेरठ 40 मिनट, दिल्ली से देहरादून 2 घंटे और दिल्ली से हरिद्वार 2 घंटे में आसानी से पहुंचा जा सकेगा।

दिल्ली से मुंबई तक का सफर केवल 12 घंटे में होगा तय

वही इस एक्सप्रेस-वे के बन जाने से दिल्ली से मुंबई तक का सफर केवल 12 घंटे में तय किया जा सकेगा। फिलहाल इस एक्सप्रेस वे का 8 लें बन कर तैयार हो चूका है। ज़रूरत पड़ने पर भविष्य में 4 लें और बन जाएगी। बांसुरी, हारमोनियम,तबला, म्यूजिक के आधार पर गाड़ियों के हार्न होंगे.

मिलेंगे रोज़गार के अवसर

इस मामले में नितिन गडकरी ने कहा कि इस वक़्त रोजगार का मामला बहुत ही गंभीर है इसको देखते हुए युवाओं को रोज़गार की सुविधा मिल सके इसलिए राजस्थान की सरकार राजमार्ग के आसपास व्यवसायिक बढ़ाएं जाएंगे। इस कार्य में केंद्र सरकार का पूरा सपोर्ट रहेगा। उन्होंने कहा कि जयपुर से दिल्ली इलेक्ट्रिक हाईवे बनने का प्रयास किया जा रहा हैं।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.